Monday, March 29, 2010

नींद

कोरी- सी ये रात,
तेरी नींद के सिरहाने रख आई थी मैं,
जब जागना तो इसे भी,
थोडा-सा उनींदा सा कर देना

3 comments:

  1. कम पन्क्तियो मे आपने बहुत बडी बात कह दी.. अति सुन्दर..

    ReplyDelete

sabd mere hai pr un pr aap apni ray dekr unhe nya arth v de skte hai..